अनोखी जगह, जहां अपने आप खिसकते हैं भारी भारी पत्थर

दुनिया में अनेकों ऐसे रहस्य हैं जिनकी गुत्थी अब तक वैज्ञानिकों के लिए गुत्थी ही बनी हुई है. हालांकि जिस रहस्य के बारे में हम इस पोस्ट में बताने जा रहे हैं, उसे कुछ वैज्ञानिक सुलझाने का दावा कर रहे हैं परन्तु अभी भी इस पर एकराय नहीं हैं.

केलिफोर्निया के रेगिस्तान स्थित डेथ वैली में Racetrack Playa नामक एक जगह है जहां पत्थरों का अपने आप खिसकना कई दशकों से एक रहस्य बना हुआ है. यहाँ सैकड़ों चट्टाननुमा पत्थर हैं जो सर्दियों के मौसम के बाद अपनी जगह से अपने आप खिसके हुए मिलते हैं. इतना ही नहीं, जमीन पर पत्थरों के खिसकने के बाकायदा निशान भी होते हैं जो रहस्य को और भी गहरा देते हैं.
इन पत्थरों को आज तक न तो किसी ने खिसकते हुए देखा और न ही किसी को खिसकाते हुए. नासा जैसी संस्था के वैज्ञानिक भी इस रहस्य को नहीं समझ पा रहे थे.

1972 में इस रहस्य को सुलझाने के लिए वैज्ञानिकों की एक टीम बनाई गई. इस टीम ने पत्थरों के एक ग्रुप का नामकरण कर उस पर 7 सालों तक अध्ययन किया. केरीन नाम का लगभग 317 किलोग्राम का एक पत्थर अध्ययन के दौरान जरा भी नहीं हिला. लेकिन कुछ साल बाद जब वैज्ञानिक वहां वापस लौटे तो उन्होंने केरीन को अपनी जगह से 1 किलोमीटर दूर पाया.
2014 में Boise State University के डॉ. ब्रायन जैक्सन के नेतृत्व में एक और टीम गई जिसने आखिरकार पत्थरों के खिसकने के रहस्य को सुलझाने का दावा किया है. उनके अनुसार पत्थरों के खिसकने के लिए बहुत ही दुर्लभ किस्म के मौसम की आवश्यकता होती जो भीषण सर्दियों में कभी-कभी बन जाता है. इसके लिए सबसे पहली जरूरत playa का पानी से भर जाना और इतनी ठण्ड पड़ना है कि पानी की ऊपरी सतह ice बन जाए. फिर दिन में जब सूरज की गर्मी से ice की चट्टानें खिसकती हैं तब वे इन पत्थरों को धक्का देती हैं जिससे ये पत्थर खिसक जाते हैं और निशान भी छोड़ देते हैं.
डॉ. जैक्सन ने खिसकते पत्थरों का एक वीडियो भी बनाया है जिसे आप यहाँ देख सकते हैं –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: