अनशन के ग्यारहवें दिन हार्दिक का 20 किलो वजन घटा, सरकार की चुप्पी टूटी

बीजेपी के दो दिग्गज नेता यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा ने हार्दिक से मुलाकात की. उन्होंने हार्दिक के अनशन

के मुद्दों को राष्ट्रीय स्तर पर उठाने की बात भी कही

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल का अनशन 11वें दिन भी जारी है. हालांकि अब उनके अनशन को लेकर राज्य सरकार भी असहज महसूस करने लगी है और इस मसले पर अबतक खामोश रही गुजरात सरकार ने पहली बार प्रतिक्रिया दी है. सरकार ने हार्दिक की सेहत पर चिंता जताते हुए उन्हें उपचार की सलाह देने के साथ साथ उनके इस आंदोलन को कांग्रेस से प्रेरित करार दिया है.

सरकार में उर्जा मंत्री सौरव पटेल ने कहा कि उनके स्वास्थ्य को लेकर सरकार चिंतित है. उन्होंने कहा, ‘हार्दिक डॉक्टर को सलाह लेनी चाहिए और उनकी बात माननी चाहिए.’ सौरव पटेल ने ये भी बताया कि सरकार ने किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए आईसीयू सुविधा वाली एक वैन हार्दिक के निवास पर तैनात कर रखी है. लेकिन इसके साथ ही पटेल ने कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि ये आंदोलन कांग्रेस के जरिए शुरु किया गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस, हार्दिक को सलाह देती है.

हार्दिक के अनशन में मध्यस्थता के लिए पाटीदारों की छह संस्थाएं पहल करने को तैयार हैं. कडवा व लेउवा पाटीदारों की छह बड़ी संस्थाएं उमिया धाम, खोडल धाम, सिद्धसर, विश्व पाटीदार आदि ने एक बैठक में सर्वसम्मति से हार्दिक के बिगड़ते स्वास्थ्य पर चिंता जताते हुए सरकार के साथ मध्यस्थता की पहल करने की बात की है. उन्होंने कहा है कि अगर हार्दिक तैयार हों तो वो सरकार से बातचीत के लिए तैयार हैं.

इस बीच बीजेपी के दो दिग्गज नेता यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा ने हार्दिक से मुलाकात की. उन्होंने हार्दिक के मुद्दों को राष्ट्रीय स्तर पर उठाने की बात भी कही.

हार्दिक पटेल पाटीदारों को आरक्षण और किसानों की कर्जमाफी के मुद्दे पर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठे हुए हैं. मंगलवार को उनके अनशन का 11वां दिन हो गया है. लगातार ग्यारह दिन से अनशन कर रहे हार्दिक के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आ रही है. हार्दिक का वजन 78 किलो से घटकर 58 किलो हो गया है.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: